un ras bhari aankhon mein haya khel rahi hai | उन रस भरी आँखों में हया खेल रही है - Akhtar Shirani

un ras bhari aankhon mein haya khel rahi hai
do zahar ke pyaalon pe qaza khel rahi hai

hain nargis-o-gul kis liye mashoor-e-tamaasha
gulshan mein koi shokh ada khel rahi hai

us bazm mein jaayen to ye kahti hain adaayein
kyun aaye ho kya sar pe qaza khel rahi hai

us chashm-e-siyah mast pe gesu hain pareshaan
maykhaane pe ghanghor ghatta khel rahi hai

bad-masti mein tum ne unhen kya kah diya akhtar
kyun shokh-nigaahon mein haya khel rahi hai

उन रस भरी आँखों में हया खेल रही है
दो ज़हर के प्यालों पे क़ज़ा खेल रही है

हैं नर्गिस-ओ-गुल किस लिए मसहूर-ए-तमाशा
गुलशन में कोई शोख़ अदा खेल रही है

उस बज़्म में जाएँ तो ये कहती हैं अदाएँ
क्यूँ आए हो, क्या सर पे क़ज़ा खेल रही है

उस चश्म-ए-सियह मस्त पे गेसू हैं परेशाँ
मयख़ाने पे घनघोर घटा खेल रही है

बद-मस्ती में तुम ने उन्हें क्या कह दिया 'अख़्तर'
क्यूँ शोख़-निगाहों में हया खेल रही है

- Akhtar Shirani
0 Likes

Mehfil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Mehfil Shayari Shayari