waqt ki intiha talak waqt ki jast ameer-imaam | वक़्त की इंतिहा तलक वक़्त की जस्त 'अमीर-इमाम' - Ameer Imam

waqt ki intiha talak waqt ki jast ameer-imaam
hast ki bood ameer-imaam bood ki hast ameer-imaam

hijr ka mahtaab hai neend na koi khwaab hai
tishna-labi sharaab hai nashshe mein mast ameer-imaam

sakht bahut hai marhala dekhiye kya ho faisla
tegh-b-kaf haqeeqaten qalb-b-dast ameer-imaam

zakham bahut mile magar aaj bhi hai uthaaye sar
dekh jahaan-e-fitna-gar teri shikast ameer-imaam

us ke tamaam hum-safar neend ke saath ja chuke
khwaab-kade mein rah gaya khwaab-parast ameer-imaam

वक़्त की इंतिहा तलक वक़्त की जस्त 'अमीर-इमाम'
हस्त की बूद 'अमीर-इमाम' बूद की हस्त 'अमीर-इमाम'

हिज्र का माहताब है नींद न कोई ख़्वाब है
तिश्ना-लबी शराब है नश्शे में मस्त 'अमीर-इमाम'

सख़्त बहुत है मरहला देखिए क्या हो फ़ैसला
तेग़-ब-कफ़ हक़ीक़तें क़ल्ब-ब-दस्त 'अमीर-इमाम'

ज़ख़्म बहुत मिले मगर आज भी है उठाए सर
देख जहान-ए-फ़ित्ना-गर तेरी शिकस्त 'अमीर-इमाम'

उस के तमाम हम-सफ़र नींद के साथ जा चुके
ख़्वाब-कदे में रह गया ख़्वाब-परस्त 'अमीर-इमाम'

- Ameer Imam
4 Likes

Rahbar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Rahbar Shayari Shayari