chhup jaata hai phir suraj jis waqt nikalta hai | छुप जाता है फिर सूरज जिस वक़्त निकलता है - Ameer Imam

chhup jaata hai phir suraj jis waqt nikalta hai
koi in aankhon mein saari raat tahalta hai

champai subhen peeli do-pahrein surmai shaamen
din dhalne se pehle kitne rang badalta hai

din mein dhoopein ban kar jaane kaun sulagta tha
raat mein shabnam ban kar jaane kaun pighlata hai

khaamoshi ke nakhun se chil jaaya karte hain
koi phir in zakhamon par aawaazen malta hai

raat ugalta rehta hai vo ek bada saaya
chhote chhote saaye jo har shaam nigalta hai

छुप जाता है फिर सूरज जिस वक़्त निकलता है
कोई इन आँखों में सारी रात टहलता है

चम्पई सुब्हें पीली दो-पहरें सुरमई शामें
दिन ढलने से पहले कितने रंग बदलता है

दिन में धूपें बन कर जाने कौन सुलगता था
रात में शबनम बन कर जाने कौन पिघलता है

ख़ामोशी के नाख़ुन से छिल जाया करते हैं
कोई फिर इन ज़ख़्मों पर आवाज़ें मलता है

रात उगलता रहता है वो एक बड़ा साया
छोटे छोटे साए जो हर शाम निगलता है

- Ameer Imam
3 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari