yahi bahut hai ki dil usko dhoondh laaya hai | यही बहुत है कि दिल उसको ढूँढ लाया है - Amjad Islam Amjad

yahi bahut hai ki dil usko dhoondh laaya hai
kisi ke saath sahi vo nazar to aaya hai

karoon shikaayaten takta rahoon ki pyaar karoon
gai bahaar kii soorat vo laut aaya hai

vo saamne tha magar ye yaqeen na aata tha
vo aap hain ki meri khwahishon ka saaya hai

azaab dhoop ke kaise hain baarishen kya hain
faseel-e-jism giri jab to hosh aaya hai

main kya karunga agar vo na mil saka amjad
abhi abhi mere dil mein khayal aaya hai

यही बहुत है कि दिल उसको ढूँढ लाया है
किसी के साथ सही वो नज़र तो आया है

करूँ शिकायतें तकता रहूँ कि प्यार करूँ
गई बहार की सूरत वो लौट आया है

वो सामने था मगर ये यक़ीं न आता था
वो आप हैं कि मेरी ख़्वाहिशों का साया है

अज़ाब धूप के कैसे हैं बारिशें क्या हैं
फ़सील-ए-जिस्म गिरी जब तो होश आया है

मैं क्या करूँगा अगर वो न मिल सका 'अमजद'
अभी अभी मेरे दिल में ख़याल आया है

- Amjad Islam Amjad
2 Likes

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari