jaise main dekhta hoon log nahin dekhte hain | जैसे मैं देखता हूँ लोग नहीं देखते हैं - Amjad Islam Amjad

jaise main dekhta hoon log nahin dekhte hain
zulm hota hai kahi aur kahi dekhte hain

teer aaya tha jidhar ye mere shehar ke log
kitne saada hain ki marham bhi wahin dekhte hain

kya hua waqt ka da'wa ki har ik agle baras
ham use aur haseen aur haseen dekhte hain

us gali mein hamein yun hi to nahin dil ki talash
jis jagah khoye koi cheez wahin dekhte hain

shaayad is baar mile koi basharat amjad
aaiye phir se muqaddar ki jabeen dekhte hain

जैसे मैं देखता हूँ लोग नहीं देखते हैं
ज़ुल्म होता है कहीं और कहीं देखते हैं

तीर आया था जिधर ये मिरे शहर के लोग
कितने सादा हैं कि मरहम भी वहीं देखते हैं

क्या हुआ वक़्त का दा'वा कि हर इक अगले बरस
हम उसे और हसीं और हसीं देखते हैं

उस गली में हमें यूँ ही तो नहीं दिल की तलाश
जिस जगह खोए कोई चीज़ वहीं देखते हैं

शायद इस बार मिले कोई बशारत 'अमजद'
आइए फिर से मुक़द्दर की जबीं देखते हैं

- Amjad Islam Amjad
1 Like

Kismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Kismat Shayari Shayari