kab se ham log is bhanwar mein hain | कब से हम लोग इस भँवर में हैं - Amjad Islam Amjad

kab se ham log is bhanwar mein hain
apne ghar mein hain ya safar mein hain

yun to udne ko aasmaan hain bahut
ham hi aashob-e-baal-o-par mein hain

zindagi ke tamaam-tar raaste
maut hi ke azeem dar mein hain

itne khadishe nahin hain raston mein
jis qadar khwaahish-e-safar mein hain

seep aur jauhri ke sab rishte
she'r aur she'r ke hunar mein hain

saaya-e-rahat-e-shajar se nikal
kuchh udaanen jo baal-o-par mein hain

aks be-naqsh ho gaye amjad
log phir aainon ke dar mein hain

कब से हम लोग इस भँवर में हैं
अपने घर में हैं या सफ़र में हैं

यूँ तो उड़ने को आसमाँ हैं बहुत
हम ही आशोब-ए-बाल-ओ-पर में हैं

ज़िंदगी के तमाम-तर रस्ते
मौत ही के अज़ीम डर में हैं

इतने ख़दशे नहीं हैं रस्तों में
जिस क़दर ख़्वाहिश-ए-सफ़र में हैं

सीप और जौहरी के सब रिश्ते
शे'र और शे'र के हुनर में हैं

साया-ए-राहत-ए-शजर से निकल
कुछ उड़ानें जो बाल-ओ-पर में हैं

अक्स बे-नक़्श हो गए 'अमजद'
लोग फिर आइनों के डर में हैं

- Amjad Islam Amjad
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari