dasht mein aag lagaane ke liye paani hai | दश्त में आग लगाने के लिए पानी है - Ankit Gautam

dasht mein aag lagaane ke liye paani hai
tu meri pyaas badhaane ke liye paani hai

mujh ko ik ahad ki mayyat pe ghada phodna hai
so mere paas zamaane ke liye paani hai

teri tasveer banaane mein lahu sookh gaya
teri tasveer mitaane ke liye paani hai

ham ye kahte hain ki insaani badan hai mitti
so use taab mein laane ke liye paani hai

teri duniya meri duniya se alag ho shaayad
yaa to har naqsh mitaane ke liye paani hai

दश्त में आग लगाने के लिए पानी है
तू मिरी प्यास बढ़ाने के लिए पानी है

मुझ को इक अहद की मय्यत पे घड़ा फोड़ना है
सो मिरे पास ज़माने के लिए पानी है

तेरी तस्वीर बनाने में लहू सूख गया
तेरी तस्वीर मिटाने के लिए पानी है

हम ये कहते हैं कि इंसानी बदन है मिट्टी
सो उसे ताब में लाने के लिए पानी है

तेरी दुनिया मिरी दुनिया से अलग हो शायद
याँ तो हर नक़्श मिटाने के लिए पानी है

- Ankit Gautam
0 Likes

Tasweer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ankit Gautam

As you were reading Shayari by Ankit Gautam

Similar Writers

our suggestion based on Ankit Gautam

Similar Moods

As you were reading Tasweer Shayari Shayari