lab o rukhsaar ki qismat se doori | लब ओ रुख़्सार की क़िस्मत से दूरी - Asad Bhopali

lab o rukhsaar ki qismat se doori
rahegi zindagi kab tak adhuri

bahut tadpa rahe hain do dilon ko
kai naazuk taqaze la-shuoori

kai raaton se hai aaghosh soona
kai raaton ki neenden hain adhuri

khuda samjhe junoon-e-justujoo ko
sar-e-manzil bhi hai manzil se doori

ajab andaaz ke shaam-o-sehar hain
koi tasveer ho jaise adhuri

khuda ko bhool hi jaaye zamaana
har ik jo aarzoo ho jaaye poori

लब ओ रुख़्सार की क़िस्मत से दूरी
रहेगी ज़िंदगी कब तक अधूरी

बहुत तड़पा रहे हैं दो दिलों को
कई नाज़ुक तक़ाज़े ला-शुऊरी

कई रातों से है आग़ोश सूना
कई रातों की नींदें हैं अधूरी

ख़ुदा समझे जुनून-ए-जुस्तुजू को
सर-ए-मंज़िल भी है मंज़िल से दूरी

अजब अंदाज़ के शाम-ओ-सहर हैं
कोई तस्वीर हो जैसे अधूरी

ख़ुदा को भूल ही जाए ज़माना
हर इक जो आरज़ू हो जाए पूरी

- Asad Bhopali
0 Likes

Lab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Asad Bhopali

As you were reading Shayari by Asad Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Asad Bhopali

Similar Moods

As you were reading Lab Shayari Shayari