mausam par man ka koi adhikaar nahin | मौसम पर मन का कोई अधिकार नहीं - Ashok Rawat

mausam par man ka koi adhikaar nahin
baadal hain par baarish ke aasaar nahin

basti mein kuch log na maare jaate hon
yaad humein aisa koi tyaohar nahin

pyaar-mohabbat seedhe-saade raaste hain
koi in par chalne ko taiyaar nahin

sab man ki kamjori hoti hai varna
gir na sake aisi koi deewaar nahin

logon se ummeed nahin sach boleinge
sach sunne ko jab koi taiyaar nahin

haar usoolon ki ki khaatir to hai manzoor
jeet humein par sharton par sveekaar nahin

jaane kyun ab shayar ke honthon par bhi
dil ko choo lene waale ashaar nahin

sab man ki kamjori hoti hai varna
gir na sake aisi koi deewaar nahin

logon se ummeed nahin sach boleinge
sach sunne ko jab koi taiyaar nahin

haar usoolon ki ki khaatir to hai manzoor
jeet humein par sharton par sveekaar nahin

jaane kyun ab shayar ke honthon par bhi
dil ko choo lene waale ashaar nahin

मौसम पर मन का कोई अधिकार नहीं
बादल हैं पर बारिश के आसार नहीं

बस्ती में कुछ लोग न मारे जाते हों
याद हमें ऐसा कोई त्यौहार नहीं

प्यार-मोहब्बत सीधे-सादे रस्ते हैं
कोई इन पर चलने को तैयार नहीं

सब मन की कमजोरी होती है वरना
गिर न सके ऐसी कोई दीवार नहीं

लोगों से उम्मीद नहीं सच बोलेंगे
सच सुनने को जब कोई तैयार नहीं

हार उसूलों की की ख़ातिर तो है मंजूर
जीत हमें पर शर्तों पर स्वीकार नहीं

जाने क्यूं अब शायर के होंठों पर भी
दिल को छू लेने वाले अशआर नहीं

सब मन की कमजोरी होती है वरना
गिर न सके ऐसी कोई दीवार नहीं

लोगों से उम्मीद नहीं सच बोलेंगे
सच सुनने को जब कोई तैयार नहीं

हार उसूलों की की ख़ातिर तो है मंजूर
जीत हमें पर शर्तों पर स्वीकार नहीं

जाने क्यूं अब शायर के होंठों पर भी
दिल को छू लेने वाले अशआर नहीं

- Ashok Rawat
6 Likes

Breakup Motivation Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashok Rawat

As you were reading Shayari by Ashok Rawat

Similar Writers

our suggestion based on Ashok Rawat

Similar Moods

As you were reading Breakup Motivation Shayari Shayari