aisi bhi kya udri hai khabar dekh kar mujhe | ऐसी भी क्या उड़ी है ख़बर देख कर मुझे - Ashu Mishra

aisi bhi kya udri hai khabar dekh kar mujhe
sab ferne lage hain nazar dekh kar mujhe

kyun chhut nahin raha hai siyah-raat ka dhuaan
kyun munh chhupa rahi hai sehar dekh kar mujhe

dono hi ro pade hain sar-e-mausam-e-khizan
main dekh kar shajar ko shajar dekh kar mujhe

maanoos ho chuka hai meri aahaton se ghar
khul ja rahe hain aap hi dar dekh kar mujhe

yun to hazaar ranj the shikwe gile bhi the
kuchh bhi na kah saka vo magar dekh kar mujhe

ऐसी भी क्या उड़ी है ख़बर देख कर मुझे
सब फेरने लगे हैं नज़र देख कर मुझे

क्यों छुट नहीं रहा है सियह-रात का धुआँ
क्यों मुँह छुपा रही है सहर देख कर मुझे

दोनों ही रो पड़े हैं सर-ए-मौसम-ए-ख़िज़ाँ
मैं देख कर शजर को शजर देख कर मुझे

मानूस हो चुका है मिरी आहटों से घर
खुल जा रहे हैं आप ही दर देख कर मुझे

यूँ तो हज़ार रंज थे शिकवे गिले भी थे
कुछ भी न कह सका वो मगर देख कर मुझे

- Ashu Mishra
2 Likes

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari