jigar aur dil ko bachaana bhi hai | जिगर और दिल को बचाना भी है - Asrar Ul Haq Majaz

jigar aur dil ko bachaana bhi hai
nazar aap hi se milaana bhi hai

mohabbat ka har bhed paana bhi hai
magar apna daaman bachaana bhi hai

jo dil tere gham ka nishaana bhi hai
qatil-e-jafa-e-zamaana bhi hai

ye bijli chamakti hai kyun dam-b-dam
chaman mein koi aashiyana bhi hai

khird ki itaaat zaroori sahi
yahi to junoon ka zamaana bhi hai

na duniya na uqba kahaan jaaie
kahi ahl-e-dil ka thikaana bhi hai

mujhe aaj saahil pe rone bhi do
ki toofaan mein muskurana bhi hai

zamaane se aage to badhiye majaaz
zamaane ko aage badhaana bhi hai

जिगर और दिल को बचाना भी है
नज़र आप ही से मिलाना भी है

मोहब्बत का हर भेद पाना भी है
मगर अपना दामन बचाना भी है

जो दिल तेरे ग़म का निशाना भी है
क़तील-ए-जफ़ा-ए-ज़माना भी है

ये बिजली चमकती है क्यूँ दम-ब-दम
चमन में कोई आशियाना भी है

ख़िरद की इताअत ज़रूरी सही
यही तो जुनूँ का ज़माना भी है

न दुनिया न उक़्बा कहाँ जाइए
कहीं अहल-ए-दिल का ठिकाना भी है

मुझे आज साहिल पे रोने भी दो
कि तूफ़ान में मुस्कुराना भी है

ज़माने से आगे तो बढ़िए 'मजाज़'
ज़माने को आगे बढ़ाना भी है

- Asrar Ul Haq Majaz
4 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Asrar Ul Haq Majaz

As you were reading Shayari by Asrar Ul Haq Majaz

Similar Writers

our suggestion based on Asrar Ul Haq Majaz

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari