log toot jaate hain ek ghar banaane mein | लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में - Bashir Badr

log toot jaate hain ek ghar banaane mein
tum taras nahin khaate bastiyaan jalane mein

aur jaam tootenge is sharaab-khaane mein
mausamon ke aane mein mausamon ke jaane mein

har dhadakte patthar ko log dil samjhte hain
umren beet jaati hain dil ko dil banaane mein

faakhta ki majboori ye bhi kah nahin sakti
kaun saanp rakhta hai us ke aashiyaane mein

doosri koi ladki zindagi mein aayegi
kitni der lagti hai us ko bhool jaane mein

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में

और जाम टूटेंगे इस शराब-ख़ाने में
मौसमों के आने में मौसमों के जाने में

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में

फ़ाख़्ता की मजबूरी ये भी कह नहीं सकती
कौन साँप रखता है उस के आशियाने में

दूसरी कोई लड़की ज़िंदगी में आएगी
कितनी देर लगती है उस को भूल जाने में

- Bashir Badr
3 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari