kise maaloom hai kaise ujaala kar rahe hain ham | किसे मालूम है कैसे उजाला कर रहे हैं हम - Bhawana Srivastava

kise maaloom hai kaise ujaala kar rahe hain ham
ki shab bhar jaag ke jugnoo ikattha kar rahe hain ham

bahut himmat juta ke phir bharosa kar to len lekin
hamein dar hai wahi ghalti dobaara kar rahe hain ham

hamein maaloom hai uski tavajjoh kaise milni hai
so bas masroof hone ka dikhaava kar rahe hain ham

agar koshish kare koi daraaren bhar bhi sakti hain
magar tumse na hoga kuchh lihaaza kar rahe hain ham

dhalegi raat kab tak ye nahin parwaah hai hamko
hai jab tak raushni khud mein ujaala kar rahe hain ham

किसे मालूम है कैसे उजाला कर रहे हैं हम
कि शब भर जाग के जुगनू इकट्ठा कर रहे हैं हम

बहुत हिम्मत जुटा के फिर भरोसा कर तो लें लेकिन
हमें डर है वही ग़लती दुबारा कर रहे हैं हम

हमें मालूम है उसकी तवज्जोह कैसे मिलनी है
सो बस मसरूफ़ होने का दिखावा कर रहे हैं हम

अगर कोशिश करे कोई दरारें भर भी सकती हैं
मगर तुमसे न होगा कुछ लिहाज़ा कर रहे हैं हम

ढलेगी रात कब तक ये नहीं परवाह है हमको
है जब तक रौशनी ख़ुद में उजाला कर रहे हैं हम

- Bhawana Srivastava
4 Likes

Faith Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bhawana Srivastava

As you were reading Shayari by Bhawana Srivastava

Similar Writers

our suggestion based on Bhawana Srivastava

Similar Moods

As you were reading Faith Shayari Shayari