milna hamaara kam hua phir baat kam hui | मिलना हमारा कम हुआ फिर बात कम हुई - Bhawana Srivastava

milna hamaara kam hua phir baat kam hui
qiston mein mujh gareeb ki khairaat kam hui

yoonhi na ham udaas hue ek roz mein
aamad tumhaare khwaab ki har raat kam hui

jis din se khud ko bheed ka hissa bana liya
us din se meri khud se mulaqaat kam hui

ik aarzoo ki bel lagaaee thi is baras
aur is baras hi jaane kyun barsaat kam hui

har-waqt chaand taare to rahte hain saath par
raaton ke man ki teergi kis raat kam hui

मिलना हमारा कम हुआ फिर बात कम हुई
क़िस्तों में मुझ ग़रीब की ख़ैरात कम हुई

यूँही न हम उदास हुए एक रोज़ में
आमद तुम्हारे ख़्वाब की हर रात कम हुई

जिस दिन से ख़ुद को भीड़ का हिस्सा बना लिया
उस दिन से मेरी ख़ुद से मुलाक़ात कम हुई

इक आरज़ू की बेल लगाई थी इस बरस
और इस बरस ही जाने क्यों बरसात कम हुई

हर-वक़्त चाँद तारे तो रहते हैं साथ पर
रातों के मन की तीरगी किस रात कम हुई

- Bhawana Srivastava
8 Likes

Hasrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bhawana Srivastava

As you were reading Shayari by Bhawana Srivastava

Similar Writers

our suggestion based on Bhawana Srivastava

Similar Moods

As you were reading Hasrat Shayari Shayari