pak gai hain aadaten baaton se sar hongi nahin | पक गई हैं आदतें बातों से सर होंगी नहीं - Dushyant Kumar

pak gai hain aadaten baaton se sar hongi nahin
koi hangaama karo aise guzar hogi nahin

in thithurti ungliyon ko is lapat par senk lo
dhoop ab ghar ki kisi deewaar par hogi nahin

boond tapki thi magar vo kyoon baarish aur hai
aisi baarish ki kabhi un ko khabar hogi nahin

aaj mera saath do vaise mujhe ma'aloom hai
pattharon mein cheekh hargiz kaargar hogi nahin

aap ke tukdon ke tukde kar diye jaayenge par
aap ki tazeem mein koi kasar hogi nahin

sirf sha'ir dekhta hai qahqahon ki asliyat
har kisi ke paas to aisi nazar hogi nahin

पक गई हैं आदतें बातों से सर होंगी नहीं
कोई हंगामा करो ऐसे गुज़र होगी नहीं

इन ठिठुरती उँगलियों को इस लपट पर सेंक लो
धूप अब घर की किसी दीवार पर होगी नहीं

बूँद टपकी थी मगर वो बूंदों बारिश और है
ऐसी बारिश की कभी उन को ख़बर होगी नहीं

आज मेरा साथ दो वैसे मुझे मा'लूम है
पत्थरों में चीख़ हरगिज़ कारगर होगी नहीं

आप के टुकड़ों के टुकड़े कर दिए जाएँगे पर
आप की ताज़ीम में कोई कसर होगी नहीं

सिर्फ़ शाइ'र देखता है क़हक़हों की असलियत
हर किसी के पास तो ऐसी नज़र होगी नहीं

- Dushyant Kumar
2 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari