baadh ki sambhaavanaayein saamne hain | बाढ़ की संभावनाएँ सामने हैं - Dushyant Kumar

baadh ki sambhaavanaayein saamne hain
aur nadiyon ke kinaare ghar bane hain

cheer-van mein aandhiyon ki baat mat kar
in darakhton ke bahut naazuk tane hain

is tarah toote hue chehre nahin hain
jis tarah toote hue ye aaine hain

aapke qaaleen dekhenge kisi din
is samay to paanv keechad mein sane hain

jis tarah chaaho bajao is sabha mein
hum nahin hain aadmi hum jhunjhune hain

ab tadpati-si ghazal koi sunaaye
hamsafar oonghe hue hain anmane hain

बाढ़ की संभावनाएँ सामने हैं
और नदियों के किनारे घर बने हैं

चीड़-वन में आँधियों की बात मत कर
इन दरख्तों के बहुत नाज़ुक तने हैं

इस तरह टूटे हुए चेहरे नहीं हैं
जिस तरह टूटे हुए ये आइने हैं

आपके क़ालीन देखेंगे किसी दिन
इस समय तो पाँव कीचड़ में सने हैं

जिस तरह चाहो बजाओ इस सभा में
हम नहीं हैं आदमी, हम झुनझुने हैं

अब तड़पती-सी ग़ज़ल कोई सुनाए
हमसफ़र ऊँघे हुए हैं, अनमने हैं

- Dushyant Kumar
4 Likes

Paani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Paani Shayari Shayari