firaq ik nayi soorat nikal to sakti hai | 'फ़िराक़' इक नई सूरत निकल तो सकती है - Firaq Gorakhpuri

firaq ik nayi soorat nikal to sakti hai
b-qaol us aankh ke duniya badal to sakti hai

tire khayal ko kuch chup si lag gai warna
kahaaniyon se shab-e-gham bahl to sakti hai

uroos-e-dehr chale kha ke thokren lekin
qadam qadam pe jawaani ubal to sakti hai

palat pade na kahi us nigaah ka jaadu
ki doob kar ye chhuri kuch uchhal to sakti hai

bujhe hue nahin itne bujhe hue dil bhi
fasuregi mein tabi'at machal to sakti hai

agar tu chahe to gham waale shaadmaan ho jaayen
nigah-e-yaar ye hasrat nikal to sakti hai

ab itni band nahin gham-kadon ki bhi raahen
hawa-e-kooch-e-mahboob chal to sakti hai

karde hain kos bahut manzil-e-mohabbat ke
mile na chaanv magar dhoop dhal to sakti hai

hayaat lau tah-e-daaman-e-marg de utthi
hawa ki raah mein ye sham'a jal to sakti hai

kuch aur maslahat-e-jazb-e-ishq hai warna
kisi se chhut ke tabi'at sambhal to sakti hai

azal se soi hai taqdeer-e-ishq maut ki neend
agar jagaaiye karvat badal to sakti hai

gham-e-zamaana-o-soz-e-nihaan ki aanch to de
agar na toote ye zanjeer gal to sakti hai

shareek-e-sharm-o-haya kuch hai bad-gumaani-e-husn
nazar utha ye jhijak si nikal to sakti hai

kabhi vo mil na sakegi main ye nahin kehta
vo aankh aankh mein pad kar badal to sakti hai

badalta jaaye gham-e-rozgaar ka markaz
ye chaal gardish-e-ayyaam chal to sakti hai

vo be-niyaaz sahi dil mata-e-hech sahi
magar kisi ki jawaani machal to sakti hai

tiri nigaah sahaara na de to baat hai aur
ki girte girte bhi duniya sambhal to sakti hai

ye zor-o-shor salaamat tiri jawaani bhi
b-qaol ishq ke saanche mein dhal to sakti hai

suna hai barf ke tukde hain dil haseenon ke
kuch aanch pa ke ye chaandi pighal to sakti hai

hasi hasi mein lahu thookte hain dil waale
ye sar-zameen magar laal ugal to sakti hai

jo tu ne tark-e-mohabbat ko ahl-e-dil se kaha
hazaar narm ho ye baat khal to sakti hai

are vo maut ho ya zindagi mohabbat par
na kuch sahi kaf-e-afsos mal to sakti hai

hain jis ke bal pe khade sarkashon ko vo dharti
agar kuchal nahin sakti nigal to sakti hai

hui hai garm lahu pee ke ishq ki talwaar
yun hi jilaaiye ja ye shaakh fal to sakti hai

guzar rahi hai dabey paanv ishq ki devi
subuk-ravi se jahaan ko masal to sakti hai

hayaat se nigah-e-vaapsi hai kuch maanoos
mere khayal se aankhon mein pal to sakti hai

na bhoolna ye hai taakheer husn ki taakheer
firaq aayi hui maut tal to sakti hai

'फ़िराक़' इक नई सूरत निकल तो सकती है
ब-क़ौल उस आँख के दुनिया बदल तो सकती है

तिरे ख़याल को कुछ चुप सी लग गई वर्ना
कहानियों से शब-ए-ग़म बहल तो सकती है

उरूस-ए-दहर चले खा के ठोकरें लेकिन
क़दम क़दम पे जवानी उबल तो सकती है

पलट पड़े न कहीं उस निगाह का जादू
कि डूब कर ये छुरी कुछ उछल तो सकती है

बुझे हुए नहीं इतने बुझे हुए दिल भी
फ़सुर्दगी में तबीअ'त मचल तो सकती है

अगर तू चाहे तो ग़म वाले शादमाँ हो जाएँ
निगाह-ए-यार ये हसरत निकल तो सकती है

अब इतनी बंद नहीं ग़म-कदों की भी राहें
हवा-ए-कूच-ए-महबूब चल तो सकती है

कड़े हैं कोस बहुत मंज़िल-ए-मोहब्बत के
मिले न छाँव मगर धूप ढल तो सकती है

हयात लौ तह-ए-दामान-ए-मर्ग दे उट्ठी
हवा की राह में ये शम्अ जल तो सकती है

कुछ और मस्लहत-ए-जज़्ब-ए-इश्क़ है वर्ना
किसी से छुट के तबीअ'त सँभल तो सकती है

अज़ल से सोई है तक़दीर-ए-इश्क़ मौत की नींद
अगर जगाइए करवट बदल तो सकती है

ग़म-ए-ज़माना-ओ-सोज़-ए-निहाँ की आँच तो दे
अगर न टूटे ये ज़ंजीर गल तो सकती है

शरीक-ए-शर्म-ओ-हया कुछ है बद-गुमानी-ए-हुस्न
नज़र उठा ये झिजक सी निकल तो सकती है

कभी वो मिल न सकेगी मैं ये नहीं कहता
वो आँख आँख में पड़ कर बदल तो सकती है

बदलता जाए ग़म-ए-रोज़गार का मरकज़
ये चाल गर्दिश-ए-अय्याम चल तो सकती है

वो बे-नियाज़ सही दिल मता-ए-हेच सही
मगर किसी की जवानी मचल तो सकती है

तिरी निगाह सहारा न दे तो बात है और
कि गिरते गिरते भी दुनिया सँभल तो सकती है

ये ज़ोर-ओ-शोर सलामत तिरी जवानी भी
ब-क़ौल इश्क़ के साँचे में ढल तो सकती है

सुना है बर्फ़ के टुकड़े हैं दिल हसीनों के
कुछ आँच पा के ये चाँदी पिघल तो सकती है

हँसी हँसी में लहू थूकते हैं दिल वाले
ये सर-ज़मीन मगर ला'ल उगल तो सकती है

जो तू ने तर्क-ए-मोहब्बत को अहल-ए-दिल से कहा
हज़ार नर्म हो ये बात खल तो सकती है

अरे वो मौत हो या ज़िंदगी मोहब्बत पर
न कुछ सही कफ़-ए-अफ़सोस मल तो सकती है

हैं जिस के बल पे खड़े सरकशों को वो धरती
अगर कुचल नहीं सकती निगल तो सकती है

हुई है गर्म लहु पी के इश्क़ की तलवार
यूँ ही जिलाए जा ये शाख़ फल तो सकती है

गुज़र रही है दबे पाँव इश्क़ की देवी
सुबुक-रवी से जहाँ को मसल तो सकती है

हयात से निगह-ए-वापसीं है कुछ मानूस
मिरे ख़याल से आँखों में पल तो सकती है

न भूलना ये है ताख़ीर हुस्न की ताख़ीर
'फ़िराक़' आई हुई मौत टल तो सकती है

- Firaq Gorakhpuri
0 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari