bastiyaan dhoondh rahi hain unhen veeraanon mein | बस्तियाँ ढूँढ रही हैं उन्हें वीरानों में - Firaq Gorakhpuri

bastiyaan dhoondh rahi hain unhen veeraanon mein
vahshatein badh gaeein had se tire deewaanon mein

nigah-e-naaz na deewaanon na farzaanon mein
jaankaar ek wahi hai magar an-jaanon mein

bazm-e-may be-khud-o-be-taab na kyun ho saaqi
mauj-e-baada hai ki dard uthata hai paimaanon mein

main to main chaunk uthi hai ye faza-e-khaamosh
ye sada kab ki sooni aati hai phir kaanon mein

sair kar ujde dilon ki jo tabeeyat hai udaas
jee bahl jaate hain akshar inheen veeraanon mein

wusaaten bhi hain nihaan tangi-e-dil mein ghaafil
jee bahl jaate hain akshar inheen maidaanon mein

jaan eemaan-e-junoon silsila jumbaan-e-junoon
kuch kashish-ha-e-nihaan jazb hain veeraanon mein

khanda-e-subh-e-azal teergi-e-shaam-e-abad
dono aalam hain chhalakte hue paimaanon mein

dekh jab aalam-e-hoo ko to naya aalam hai
bastiyaan bhi nazar aane lagin veeraanon mein

jis jagah baith gaye aag laga kar utthe
garmiyaan hain kuch abhi sokhta-saamaanoń mein

vahshatein bhi nazar aati hain sar-e-parda-e-naaz
daamanoń mein hai ye aalam na garebaanon mein

ek rangeeni-e-zaahir hai gulistaan mein agar
ek shaadabi-e-pinhaan hai biyaabaanon mein

jauhar-e-ghuncha-o-gul mein hai ik andaaz-e-junoon
kuch biyaabaan nazar aaye hain garebaanon mein

ab vo rang-e-chaman-o-khanda-e-gul bhi na rahe
ab vo aasaar-e-junoon bhi nahin deewaanon mein

ab vo saaqi ki bhi aankhen na raheen rindon mein
ab vo saaghar bhi chhalakte nahin may-khaanon mein

ab vo ik soz-e-nihaani bhi dilon mein na raha
ab vo jalwe bhi nahin ishq ke kaashaanon mein

ab na vo raat jab ummeedein bhi kuch theen tujh se
ab na vo baat gham-e-hijr ke afsaano mein

ab tira kaam hai bas ahl-e-wafa ka paana
ab tira naam hai bas ishq ke gham-khaanon mein

ta-b-kai waada-e-mauhoom ki tafseel firaq
shab-e-furqat kahi kattee hai in afsaano mein

बस्तियाँ ढूँढ रही हैं उन्हें वीरानों में
वहशतें बढ़ गईं हद से तिरे दीवानों में

निगह-ए-नाज़ न दीवानों न फ़र्ज़ानों में
जानकार एक वही है मगर अन-जानों में

बज़्म-ए-मय बे-ख़ुद-ओ-बे-ताब न क्यूँ हो साक़ी
मौज-ए-बादा है कि दर्द उठता है पैमानों में

मैं तो मैं चौंक उठी है ये फ़ज़ा-ए-ख़ामोश
ये सदा कब की सुनी आती है फिर कानों में

सैर कर उजड़े दिलों की जो तबीअत है उदास
जी बहल जाते हैं अक्सर इन्हीं वीरानों में

वुसअतें भी हैं निहाँ तंगी-ए-दिल में ग़ाफ़िल
जी बहल जाते हैं अक्सर इन्हीं मैदानों में

जान ईमान-ए-जुनूँ सिलसिला जुम्बान-ए-जुनूँ
कुछ कशिश-हा-ए-निहाँ जज़्ब हैं वीरानों में

ख़ंदा-ए-सुब्ह-ए-अज़ल तीरगी-ए-शाम-ए-अबद
दोनों आलम हैं छलकते हुए पैमानों में

देख जब आलम-ए-हू को तो नया आलम है
बस्तियाँ भी नज़र आने लगीं वीरानों में

जिस जगह बैठ गए आग लगा कर उट्ठे
गर्मियाँ हैं कुछ अभी सोख़्ता-सामानों में

वहशतें भी नज़र आती हैं सर-ए-पर्दा-ए-नाज़
दामनों में है ये आलम न गरेबानों में

एक रंगीनी-ए-ज़ाहिर है गुलिस्ताँ में अगर
एक शादाबी-ए-पिन्हाँ है बयाबानों में

जौहर-ए-ग़ुंचा-ओ-गुल में है इक अंदाज़-ए-जुनूँ
कुछ बयाबाँ नज़र आए हैं गरेबानों में

अब वो रंग-ए-चमन-ओ-ख़ंदा-ए-गुल भी न रहे
अब वो आसार-ए-जुनूँ भी नहीं दीवानों में

अब वो साक़ी की भी आँखें न रहीं रिंदों में
अब वो साग़र भी छलकते नहीं मय-ख़ानों में

अब वो इक सोज़-ए-निहानी भी दिलों में न रहा
अब वो जल्वे भी नहीं इश्क़ के काशानों में

अब न वो रात जब उम्मीदें भी कुछ थीं तुझ से
अब न वो बात ग़म-ए-हिज्र के अफ़्सानों में

अब तिरा काम है बस अहल-ए-वफ़ा का पाना
अब तिरा नाम है बस इश्क़ के ग़म-ख़ानों में

ता-ब-कै वादा-ए-मौहूम की तफ़्सील 'फ़िराक़'
शब-ए-फ़ुर्क़त कहीं कटती है इन अफ़्सानों में

- Firaq Gorakhpuri
1 Like

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari