kuch ishaare the jinhen duniya samajh baithe the hum | कुछ इशारे थे जिन्हें दुनिया समझ बैठे थे हम - Firaq Gorakhpuri

kuch ishaare the jinhen duniya samajh baithe the hum
us nigaah-e-aashna ko kya samajh baithe the hum

rafta rafta gair apni hi nazar mein ho gaye
waah-ree ghafalat tujhe apna samajh baithe the hum

hosh ki taufeeq bhi kab ahl-e-dil ko ho saki
ishq mein apne ko deewaana samajh baithe the hum

parda-e-aazurdagi mein thi vo jaan-e-iltefaat
jis ada ko ranjish-e-beja samajh baithe the hum

kya kahein ulfat mein raaz-e-be-hisi kyunkar khula
har nazar ko teri dard-afzaa samajh baithe the hum

be-niyaazi ko tiri paaya saraasar soz o dard
tujh ko ik duniya se begaana samajh baithe the hum

inqilaab-e-pay-b-pay har gardish o har daur mein
is zameen o aasmaan ko kya samajh baithe the hum

bhool baithi vo nigaah-e-naaz ahad-e-dosti
us ko bhi apni tabi'at ka samajh baithe the hum

saaf alag hum ko junoon-e-aashiqi ne kar diya
khud ko tere dard ka parda samajh baithe the hum

kaan bajte hain mohabbat ke sukoot-e-naaz ko
dastaan ka khatm ho jaana samajh baithe the hum

baaton baaton mein payaam-e-marg bhi aa hi gaya
un nigaahon ko hayaat-afza samajh baithe the hum

ab nahin tab-e-sipaas-e-husn is dil ko jise
be-qaraar-e-shikw-e-beja samajh baithe the hum

ek duniya dard ki tasveer nikli ishq ko
koh-kan aur qais ka qissa samajh baithe the hum

rafta rafta ishq maanoos-e-jahaan hota chala
khud ko tere hijr mein tanhaa samajh baithe the hum

husn ko ik husn hi samjhe nahin aur ai firaq
meherbaan na-mehrabaan kya kya samajh baithe the hum

कुछ इशारे थे जिन्हें दुनिया समझ बैठे थे हम
उस निगाह-ए-आश्ना को क्या समझ बैठे थे हम

रफ़्ता रफ़्ता ग़ैर अपनी ही नज़र में हो गए
वाह-री ग़फ़्लत तुझे अपना समझ बैठे थे हम

होश की तौफ़ीक़ भी कब अहल-ए-दिल को हो सकी
इश्क़ में अपने को दीवाना समझ बैठे थे हम

पर्दा-ए-आज़ुर्दगी में थी वो जान-ए-इल्तिफ़ात
जिस अदा को रंजिश-ए-बेजा समझ बैठे थे हम

क्या कहें उल्फ़त में राज़-ए-बे-हिसी क्यूँकर खुला
हर नज़र को तेरी दर्द-अफ़ज़ा समझ बैठे थे हम

बे-नियाज़ी को तिरी पाया सरासर सोज़ ओ दर्द
तुझ को इक दुनिया से बेगाना समझ बैठे थे हम

इंक़लाब-ए-पय-ब-पय हर गर्दिश ओ हर दौर में
इस ज़मीन ओ आसमाँ को क्या समझ बैठे थे हम

भूल बैठी वो निगाह-ए-नाज़ अहद-ए-दोस्ती
उस को भी अपनी तबीअ'त का समझ बैठे थे हम

साफ़ अलग हम को जुनून-ए-आशिक़ी ने कर दिया
ख़ुद को तेरे दर्द का पर्दा समझ बैठे थे हम

कान बजते हैं मोहब्बत के सुकूत-ए-नाज़ को
दास्ताँ का ख़त्म हो जाना समझ बैठे थे हम

बातों बातों में पयाम-ए-मर्ग भी आ ही गया
उन निगाहों को हयात-अफ़्ज़ा समझ बैठे थे हम

अब नहीं ताब-ए-सिपास-ए-हुस्न इस दिल को जिसे
बे-क़रार-ए-शिकव-ए-बेजा समझ बैठे थे हम

एक दुनिया दर्द की तस्वीर निकली इश्क़ को
कोह-कन और क़ैस का क़िस्सा समझ बैठे थे हम

रफ़्ता रफ़्ता इश्क़ मानूस-ए-जहाँ होता चला
ख़ुद को तेरे हिज्र में तन्हा समझ बैठे थे हम

हुस्न को इक हुस्न ही समझे नहीं और ऐ 'फ़िराक़'
मेहरबाँ ना-मेहरबाँ क्या क्या समझ बैठे थे हम

- Firaq Gorakhpuri
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari