os padi thi raat bahut aur kohra tha garmaish par | ओस पड़ी थी रात बहुत और कोहरा था गर्माइश पर - Gulzar

os padi thi raat bahut aur kohra tha garmaish par
sailee si khaamoshi mein awaaz sooni farmaaish par

faasle hain bhi aur nahin bhi naapa taula kuchh bhi nahin
log b-zid rahte hain phir bhi rishton ki paimaish par

munh moda aur dekha kitni door khade the ham dono
aap lade the ham se bas ik karvat ki gunjaish par

kaaghaz ka ik chaand laga kar raat andheri khidki par
dil mein kitne khush the apni furqat ki aaraish par

dil ka hujra kitni baar ujda bhi aur basaaya bhi
saari umr kahaan thehra hai koi ek rihaaish par

dhoop aur chaanv baant ke tum ne aangan mein deewaar chuni
kya itna aasaan hai zinda rahna is aasaaish par

shaayad teen nujoomi meri maut pe aa kar pahunchege
aisa hi ik baar hua tha eesa ki paidaish par

ओस पड़ी थी रात बहुत और कोहरा था गर्माइश पर
सैली सी ख़ामोशी में आवाज़ सुनी फ़रमाइश पर

फ़ासले हैं भी और नहीं भी नापा तौला कुछ भी नहीं
लोग ब-ज़िद रहते हैं फिर भी रिश्तों की पैमाइश पर

मुँह मोड़ा और देखा कितनी दूर खड़े थे हम दोनों
आप लड़े थे हम से बस इक करवट की गुंजाइश पर

काग़ज़ का इक चाँद लगा कर रात अँधेरी खिड़की पर
दिल में कितने ख़ुश थे अपनी फ़ुर्क़त की आराइश पर

दिल का हुज्रा कितनी बार उजड़ा भी और बसाया भी
सारी उम्र कहाँ ठहरा है कोई एक रिहाइश पर

धूप और छाँव बाँट के तुम ने आँगन में दीवार चुनी
क्या इतना आसान है ज़िंदा रहना इस आसाइश पर

शायद तीन नुजूमी मेरी मौत पे आ कर पहुँचेंगे
ऐसा ही इक बार हुआ था ईसा की पैदाइश पर

- Gulzar
1 Like

Aangan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Aangan Shayari Shayari