dard halka hai saans bhari hai | दर्द हल्का है साँस भारी है - Gulzar

dard halka hai saans bhari hai
jiye jaane ki rasm jaari hai

aap ke b'ad har ghadi hum ne
aap ke saath hi guzaari hai

raat ko chaandni to odha do
din ki chadar abhi utaari hai

shaakh par koi qahqaha to khile
kaisi chup si chaman pe taari hai

kal ka har waqia tumhaara tha
aaj ki dastaan hamaari hai

दर्द हल्का है साँस भारी है
जिए जाने की रस्म जारी है

आप के ब'अद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

रात को चाँदनी तो ओढ़ा दो
दिन की चादर अभी उतारी है

शाख़ पर कोई क़हक़हा तो खिले
कैसी चुप सी चमन पे तारी है

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

- Gulzar
14 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari