kaanch ke peeche chaand bhi tha aur kaanch ke oopar kaai bhi | काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी - Gulzar

kaanch ke peeche chaand bhi tha aur kaanch ke oopar kaai bhi
teeno the ham vo bhi the aur main bhi tha tanhaai bhi

yaadon ki bauchaaron se jab palkein bheegne lagti hain
sondhi sondhi lagti hai tab maazi ki ruswaai bhi

do do shaklein dikhti hain is bahke se aaine mein
mere saath chala aaya hai aap ka ik saudaai bhi

kitni jaldi mailee karta hai poshaakein roz falak
subh hi raat utaari thi aur shaam ko shab pahnaai bhi

khaamoshi ka haasil bhi ik lambi si khaamoshi thi
un ki baat sooni bhi ham ne apni baat sunaai bhi

kal saahil par lete lete kitni saari baatein keen
aap ka hunkaara na aaya chaand ne baat karaai bhi

काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगती हैं
सोंधी सोंधी लगती है तब माज़ी की रुस्वाई भी

दो दो शक्लें दिखती हैं इस बहके से आईने में
मेरे साथ चला आया है आप का इक सौदाई भी

कितनी जल्दी मैली करता है पोशाकें रोज़ फ़लक
सुब्ह ही रात उतारी थी और शाम को शब पहनाई भी

ख़ामोशी का हासिल भी इक लम्बी सी ख़ामोशी थी
उन की बात सुनी भी हम ने अपनी बात सुनाई भी

कल साहिल पर लेटे लेटे कितनी सारी बातें कीं
आप का हुंकारा न आया चाँद ने बात कराई भी

- Gulzar
1 Like

Eid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Eid Shayari Shayari