husn ne seekheen ghareeb-aazaarriyaan | हुस्न ने सीखीं ग़रीब-आज़ारियाँ - Hafeez Jalandhari

husn ne seekheen ghareeb-aazaarriyaan
ishq ki majbooriyaan laachaariyaan

bah gaya dil hasraton ke khoon mein
le gaeein beemaar ko beemaariyaan

soch kar gham deejie aisa na ho
aap ko karne pade gham-khwaariyaan

daar ke qadmon mein bhi pahunchee na aql
ishq hi ke sar raheen sardaariyaan

ik taraf jins-e-wafa qeemat-tabl
ik taraf main aur meri naadaariyaan

hote hote jaan doobhar ho gai
badhte badhte badh gaeein be-zaariyaan

tum ne duniya hi badal daali meri
ab to rahne do ye duniya-daariyaan

हुस्न ने सीखीं ग़रीब-आज़ारियाँ
इश्क़ की मजबूरियाँ लाचारियाँ

बह गया दिल हसरतों के ख़ून में
ले गईं बीमार को बीमारियाँ

सोच कर ग़म दीजिए ऐसा न हो
आप को करनी पड़ें ग़म-ख़्वारियाँ

दार के क़दमों में भी पहुँची न अक़्ल
इश्क़ ही के सर रहीं सरदारियाँ

इक तरफ़ जिंस-ए-वफ़ा क़ीमत-तबल
इक तरफ़ मैं और मिरी नादारियाँ

होते होते जान दूभर हो गई
बढ़ते बढ़ते बढ़ गईं बे-ज़ारियाँ

तुम ने दुनिया ही बदल डाली मिरी
अब तो रहने दो ये दुनिया-दारियाँ

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Taareef Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Taareef Shayari Shayari