raaz kahaan tak raaz rahega manzar-e-aam pe aayega | राज़ कहाँ तक राज़ रहेगा मंज़र-ए-आम पे आएगा - Ibn E Insha

raaz kahaan tak raaz rahega manzar-e-aam pe aayega
jee ka daagh ujaagar ho kar suraj ko sharmaayega

shehron ko veeraan karega apni aanch ki tezi se
veeraanon mein mast albele wahshi phool khilaayega

haan yahi shakhs gudaaz aur naazuk honton par muskaan liye
ai dil apne haath lagaate patthar ka ban jaayega

deeda o dil ne dard ki apne baat bhi ki to kis se ki
vo to dard ka baani thehra vo kya dard bataayega

tera noor zuhoor salaamat ik din tujh par maah-e-tamaam
chaand-nagar ka rahne waala chaand-nagar likh jaayega

राज़ कहाँ तक राज़ रहेगा मंज़र-ए-आम पे आएगा
जी का दाग़ उजागर हो कर सूरज को शरमाएगा

शहरों को वीरान करेगा अपनी आँच की तेज़ी से
वीरानों में मस्त अलबेले वहशी फूल खिलाएगा

हाँ यही शख़्स गुदाज़ और नाज़ुक होंटों पर मुस्कान लिए
ऐ दिल अपने हाथ लगाते पत्थर का बन जाएगा

दीदा ओ दिल ने दर्द की अपने बात भी की तो किस से की
वो तो दर्द का बानी ठहरा वो क्या दर्द बटाएगा

तेरा नूर ज़ुहूर सलामत इक दिन तुझ पर माह-ए-तमाम
चाँद-नगर का रहने वाला चाँद-नगर लिख जाएगा

- Ibn E Insha
0 Likes

Diwangi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Diwangi Shayari Shayari