azaab ye bhi kisi aur par nahin aaya | अज़ाब ये भी किसी और पर नहीं आया - Iftikhar Arif

azaab ye bhi kisi aur par nahin aaya
ki ek umr chale aur ghar nahin aaya

us ek khwaab ki hasrat mein jal bujhi aankhen
vo ek khwaab ki ab tak nazar nahin aaya

karein to kis se karein na-rasaiyon ka gila
safar tamaam hua hum-safar nahin aaya

dilon ki baat badan ki zabaan se kah dete
ye chahte the magar dil idhar nahin aaya

ajeeb hi tha mere daur-e-gumrahi ka rafeeq
bichhad gaya to kabhi laut kar nahin aaya

hareem-e-lafz-o-maani se nisbatein bhi raheen
magar saleeqa-e-arz-e-hunar nahin aaya

अज़ाब ये भी किसी और पर नहीं आया
कि एक उम्र चले और घर नहीं आया

उस एक ख़्वाब की हसरत में जल बुझीं आँखें
वो एक ख़्वाब कि अब तक नज़र नहीं आया

करें तो किस से करें ना-रसाइयों का गिला
सफ़र तमाम हुआ हम-सफ़र नहीं आया

दिलों की बात बदन की ज़बाँ से कह देते
ये चाहते थे मगर दिल इधर नहीं आया

अजीब ही था मिरे दौर-ए-गुमरही का रफ़ीक़
बिछड़ गया तो कभी लौट कर नहीं आया

हरीम-ए-लफ़्ज़-ओ-मआनी से निस्बतें भी रहीं
मगर सलीक़ा-ए-अर्ज़-ए-हुनर नहीं आया

- Iftikhar Arif
1 Like

Musafir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Musafir Shayari Shayari