ye basti jaani-pahchaani bahut hai | ये बस्ती जानी-पहचानी बहुत है - Iftikhar Arif

ye basti jaani-pahchaani bahut hai
yahan va'don ki arzaani bahut hai

shagufta lafz likkhe ja rahe hain
magar lahjon mein veeraani bahut hai

subuk-zarfon ke qaabu mein nahin lafz
magar shauq-e-gul-afshaani bahut hai

hai bazaaron mein paani sar se ooncha
mere ghar mein bhi tughyaani bahut hai

na jaane kab mere sehra mein aaye
vo ik dariya ki toofaani bahut hai

na jaane kab mere aangan mein barase
vo ik baadal ki nuqsaani bahut hai

ये बस्ती जानी-पहचानी बहुत है
यहाँ वा'दों की अर्ज़ानी बहुत है

शगुफ़्ता लफ़्ज़ लिक्खे जा रहे हैं
मगर लहजों में वीरानी बहुत है

सुबुक-ज़र्फ़ों के क़ाबू में नहीं लफ़्ज़
मगर शौक़-ए-गुल-अफ़्शानी बहुत है

है बाज़ारों में पानी सर से ऊँचा
मिरे घर में भी तुग़्यानी बहुत है

न जाने कब मिरे सहरा में आए
वो इक दरिया कि तूफ़ानी बहुत है

न जाने कब मिरे आँगन में बरसे
वो इक बादल कि नुक़सानी बहुत है

- Iftikhar Arif
0 Likes

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari