zara si der ko aaye the khwaab aankhon mein | ज़रा सी देर को आए थे ख़्वाब आँखों में - Iftikhar Arif

zara si der ko aaye the khwaab aankhon mein
phir us ke ba'ad musalsal azaab aankhon mein

vo jis ke naam ki nisbat se raushni tha vujood
khatk raha hai wahi aftaab aankhon mein

jinhen mata-e-dil-o-jaan samajh rahe the ham
vo aaine bhi hue be-hijaab aankhon mein

ajab tarah ka hai mausam ki khaak udti hai
vo din bhi the ki khile the gulaab aankhon mein

mere ghazaal tiri vahshaton ki khair ki hai
bahut dinon se bahut iztiraab aankhon mein

na jaane kaisi qayamat ka pesh-khema hai
ye uljhane tiri be-intisaab aankhon mein

javaaz kya hai mere kam-sukhan bata to sahi
b-naam-e-khush-nigaahi har jawaab aankhon mein

ज़रा सी देर को आए थे ख़्वाब आँखों में
फिर उस के बा'द मुसलसल अज़ाब आँखों में

वो जिस के नाम की निस्बत से रौशनी था वजूद
खटक रहा है वही आफ़्ताब आँखों में

जिन्हें मता-ए-दिल-ओ-जाँ समझ रहे थे हम
वो आइने भी हुए बे-हिजाब आँखों में

अजब तरह का है मौसम कि ख़ाक उड़ती है
वो दिन भी थे कि खिले थे गुलाब आँखों में

मिरे ग़ज़ाल तिरी वहशतों की ख़ैर कि है
बहुत दिनों से बहुत इज़्तिराब आँखों में

न जाने कैसी क़यामत का पेश-ख़ेमा है
ये उलझनें तिरी बे-इंतिसाब आँखों में

जवाज़ क्या है मिरे कम-सुख़न बता तो सही
ब-नाम-ए-ख़ुश-निगही हर जवाब आँखों में

- Iftikhar Arif
0 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari