ye qarz-e-kaj-kulahi kab talak ada hoga | ये क़र्ज़-ए-कज-कुलही कब तलक अदा होगा - Iftikhar Arif

ye qarz-e-kaj-kulahi kab talak ada hoga
tabaah ho to gaye hain ab aur kya hoga

yahan tak aayi hai bifre hue lahu ki sada
hamaare shehar mein kya kuchh nahin hua hoga

ghubaar-e-koocha-e-wa'da bikharta jaata hai
ab aage apne bikharna ka silsila hoga

sada lagaaee to pursaan-e-haal koi na tha
gumaan tha ki har ik shakhs ham-nava hoga

kabhi kabhi to vo aankhen bhi sochti hongi
bichhad ke rang se khwaabon ka haal kya hoga

hua hai yun bhi ki ik umr apne ghar na gaye
ye jaante the koi raah dekhta hoga

abhi to dhund mein lipate hue hain sab manzar
tum aaoge to ye mausam badal chuka hoga

ये क़र्ज़-ए-कज-कुलही कब तलक अदा होगा
तबाह हो तो गए हैं अब और क्या होगा

यहाँ तक आई है बिफरे हुए लहू की सदा
हमारे शहर में क्या कुछ नहीं हुआ होगा

ग़ुबार-ए-कूचा-ए-व'अदा बिखरता जाता है
अब आगे अपने बिखरने का सिलसिला होगा

सदा लगाई तो पुर्सान-ए-हाल कोई न था
गुमान था कि हर इक शख़्स हम-नवा होगा

कभी कभी तो वो आँखें भी सोचती होंगी
बिछड़ के रंग से ख़्वाबों का हाल क्या होगा

हुआ है यूँ भी कि इक उम्र अपने घर न गए
ये जानते थे कोई राह देखता होगा

अभी तो धुँद में लिपटे हुए हैं सब मंज़र
तुम आओगे तो ये मौसम बदल चुका होगा

- Iftikhar Arif
0 Likes

Andaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Andaaz Shayari Shayari