wafa ki khair manaata hoon bewafaai mein bhi | वफ़ा की ख़ैर मनाता हूँ बेवफ़ाई में भी - Iftikhar Arif

wafa ki khair manaata hoon bewafaai mein bhi
main us ki qaid mein hoon qaid se rihaai mein bhi

lahu ki aag mein jal-bujh gaye badan to khula
rasai mein bhi khasaara hai na-rasaai mein bhi

badalte rahte hain mausam guzarta rehta hai waqt
magar ye dil ki wahin ka wahin judaai mein bhi

lihaaz-e-hurmat-e-paema'n na paas-e-hum-khwaabi
ajab tarah ke tasaadum the aashnaai mein bhi

main das baras se kisi khwaab ke azaab mein hoon
wahin azaab dar aaya hai is dahaai mein bhi

tasaadum-e-dil-o-duniya mein dil ki haar ke ba'ad
hijaab aane laga hai ghazal-saraai mein bhi

main ja raha hoon ab us ki taraf usi ki taraf
jo mere saath tha meri shikasta-paai mein bhi

वफ़ा की ख़ैर मनाता हूँ बेवफ़ाई में भी
मैं उस की क़ैद में हूँ क़ैद से रिहाई में भी

लहू की आग में जल-बुझ गए बदन तो खुला
रसाई में भी ख़सारा है ना-रसाई में भी

बदलते रहते हैं मौसम गुज़रता रहता है वक़्त
मगर ये दिल कि वहीं का वहीं जुदाई में भी

लिहाज़-ए-हुर्मत-ए-पैमाँ न पास-ए-हम-ख़्वाबी
अजब तरह के तसादुम थे आश्नाई में भी

मैं दस बरस से किसी ख़्वाब के अज़ाब में हूँ
वही अज़ाब दर आया है इस दहाई में भी

तसादुम-ए-दिल-ओ-दुनिया में दिल की हार के बा'द
हिजाब आने लगा है ग़ज़ल-सराई में भी

मैं जा रहा हूँ अब उस की तरफ़ उसी की तरफ़
जो मेरे साथ था मेरी शिकस्ता-पाई में भी

- Iftikhar Arif
0 Likes

Faasla Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Faasla Shayari Shayari