ye bastiyaan hain ki maqtal dua kiye jaayen | ये बस्तियाँ हैं कि मक़्तल दुआ किए जाएँ - Iftikhar Arif

ye bastiyaan hain ki maqtal dua kiye jaayen
dua ke din hain musalsal dua kiye jaayen

koi fugaan koi naala koi bukaa koi bein
khulega baab-e-muqaffal dua kiye jaayen

ye iztiraab ye lamba safar ye tanhaai
ye raat aur ye jungle dua kiye jaayen

bahaal ho ke rahegi faza-e-khitta-e-khair
ye habs hoga mo'attal dua kiye jaayen

guzishtagaan-e-mohabbat ke khwaab ki saugand
vo khwaab hoga mukammal dua kiye jaayen

hawaaye sarkash o saffaaq ke muqaabil bhi
ye dil bujhenge na mish'aal dua kiye jaayen

ghubaar udaati jhulsati hui zameenon par
umand ke aayenge baadal dua kiye jaayen

qubool hona muqaddar hai harf-e-khaalis ka
har ek aan har ik pal dua kiye jaayen

ये बस्तियाँ हैं कि मक़्तल दुआ किए जाएँ
दुआ के दिन हैं मुसलसल दुआ किए जाएँ

कोई फ़ुग़ाँ कोई नाला कोई बुका कोई बैन
खुलेगा बाब-ए-मुक़फ़्फ़ल दुआ किए जाएँ

ये इज़्तिराब ये लम्बा सफ़र ये तन्हाई
ये रात और ये जंगल दुआ किए जाएँ

बहाल हो के रहेगी फ़ज़ा-ए-ख़ित्ता-ए-ख़ैर
ये हब्स होगा मोअ'त्तल दुआ किए जाएँ

गुज़िश्तगान-ए-मोहब्बत के ख़्वाब की सौगंद
वो ख़्वाब होगा मुकम्मल दुआ किए जाएँ

हवाए सरकश ओ सफ़्फ़ाक के मुक़ाबिल भी
ये दिल बुझेंगे न मिशअल दुआ किए जाएँ

ग़ुबार उड़ाती झुलसती हुई ज़मीनों पर
उमँड के आएँगे बादल दुआ किए जाएँ

क़ुबूल होना मुक़द्दर है हर्फ़-ए-ख़ालिस का
हर एक आन हर इक पल दुआ किए जाएँ

- Iftikhar Arif
0 Likes

Travel Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Travel Shayari Shayari