thakan to agle safar ke liye bahaana tha | थकन तो अगले सफ़र के लिए बहाना था - Iftikhar Arif

thakan to agle safar ke liye bahaana tha
use to yun bhi kisi aur samt jaana tha

wahi charaagh bujha jis ki lau qayamat thi
usi pe zarb padi jo shajar puraana tha

mataa-e-jaan ka badal ek pal ki sarshaari
sulook khwaab ka aankhon se tajiraana tha

hawa ki kaat shagoofoon ne jazb kar li thi
tabhi to lahja-e-khushboo bhi jaarehaana tha

wahi firaq ki baatein wahi hikaayat-e-wasl
nayi kitaab ka ek ik varq puraana tha

qaba-e-zard nigaar-e-khizaan pe sajti thi
tabhi to chaal ka andaaz khusrawaana tha

थकन तो अगले सफ़र के लिए बहाना था
उसे तो यूँ भी किसी और सम्त जाना था

वही चराग़ बुझा जिस की लौ क़यामत थी
उसी पे ज़र्ब पड़ी जो शजर पुराना था

मता-ए-जाँ का बदल एक पल की सरशारी
सुलूक ख़्वाब का आँखों से ताजिराना था

हवा की काट शगूफ़ों ने जज़्ब कर ली थी
तभी तो लहजा-ए-ख़ुशबू भी जारेहाना था

वही फ़िराक़ की बातें वही हिकायत-ए-वस्ल
नई किताब का एक इक वरक़ पुराना था

क़बा-ए-ज़र्द निगार-ए-ख़िज़ाँ पे सजती थी
तभी तो चाल का अंदाज़ ख़ुसरवाना था

- Iftikhar Arif
2 Likes

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari