khwaab-e-deerina se ruksat ka sabab poochte hain | ख़्वाब-ए-देरीना से रुख़्सत का सबब पूछते हैं - Iftikhar Arif

khwaab-e-deerina se ruksat ka sabab poochte hain
chaliye pehle nahin poocha tha to ab poochte hain

kaise khush-taba hain is shahr-e-dil-aazaar ke log
mauj-e-khoon sar se guzar jaati hai tab poochte hain

ahl-e-duniya ka to kya zikr ki deewaanon ko
saahibaan-e-dil-e-shoreeda bhi kab poochte hain

khaak udaati hui raatein hon ki bheege hue din
awwal-e-subh ke gham aakhir-e-shab poochte hain

ek ham hi to nahin hain jo uthaate hain sawaal
jitne hain khaak-basar shehar ke sab poochte hain

yahi majboor yahi mohr-b-lab be-aawaaz
poochne par kabhi aayein to gazab poochte hain

karam-e-masnad-o-mimbar ki ab arbaab-e-hukm
zulm kar chukte hain tab marzi-e-rab poochte hain

ख़्वाब-ए-देरीना से रुख़्सत का सबब पूछते हैं
चलिए पहले नहीं पूछा था तो अब पूछते हैं

कैसे ख़ुश-तबा हैं इस शहर-ए-दिल-आज़ार के लोग
मौज-ए-ख़ूँ सर से गुज़र जाती है तब पूछते हैं

अहल-ए-दुनिया का तो क्या ज़िक्र कि दीवानों को
साहिबान-ए-दिल-ए-शोरीदा भी कब पूछते हैं

ख़ाक उड़ाती हुई रातें हों कि भीगे हुए दिन
अव्वल-ए-सुब्ह के ग़म आख़िर-ए-शब पूछते हैं

एक हम ही तो नहीं हैं जो उठाते हैं सवाल
जितने हैं ख़ाक-बसर शहर के सब पूछते हैं

यही मजबूर यही मोहर-ब-लब बे-आवाज़
पूछने पर कभी आएँ तो ग़ज़ब पूछते हैं

करम-ए-मसनद-ओ-मिम्बर कि अब अरबाब-ए-हकम
ज़ुल्म कर चुकते हैं तब मर्ज़ी-ए-रब पूछते हैं

- Iftikhar Arif
0 Likes

Majboori Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Majboori Shayari Shayari