bikhar jaayenge ham kya jab tamasha khatm hoga | बिखर जाएँगे हम क्या जब तमाशा ख़त्म होगा - Iftikhar Arif

bikhar jaayenge ham kya jab tamasha khatm hoga
mere ma'bood aakhir kab tamasha khatm hoga

charaag-e-hujra-e-darvesh ki bujhti hui lau
hawa se kah gai hai ab tamasha khatm hoga

kahaani mein naye kirdaar shaamil ho gaye hain
nahin ma'aloom ab kis dhab tamasha khatm hoga

kahaani aap uljhi hai ki uljhaai gai hai
ye uqda tab khulega jab tamasha khatm hoga

zameen jab adl se bhar jaayegi noorun-ala-noor
b-naam-e-maslak-o-mazhab tamasha khatm hoga

ye sab kath-putliyaan raksaan raheingi raat ki raat
sehar se pehle pehle sab tamasha khatm hoga

tamasha karne waalon ko khabar di ja chuki hai
ki parda kab girega kab tamasha khatm hoga

dil-e-na-mutmain aisa bhi kya mayus rahna
jo khalk utthi to sab kartab tamasha khatm hoga

बिखर जाएँगे हम क्या जब तमाशा ख़त्म होगा
मिरे मा'बूद आख़िर कब तमाशा ख़त्म होगा

चराग़-ए-हुज्रा-ए-दर्वेश की बुझती हुई लौ
हवा से कह गई है अब तमाशा ख़त्म होगा

कहानी में नए किरदार शामिल हो गए हैं
नहीं मा'लूम अब किस ढब तमाशा ख़त्म होगा

कहानी आप उलझी है कि उलझाई गई है
ये उक़्दा तब खुलेगा जब तमाशा ख़त्म होगा

ज़मीं जब अद्ल से भर जाएगी नूरुन-अला-नूर
ब-नाम-ए-मस्लक-ओ-मज़हब तमाशा ख़त्म होगा

ये सब कठ-पुतलियाँ रक़्साँ रहेंगी रात की रात
सहर से पहले पहले सब तमाशा ख़त्म होगा

तमाशा करने वालों को ख़बर दी जा चुकी है
कि पर्दा कब गिरेगा कब तमाशा ख़त्म होगा

दिल-ए-ना-मुतमइन ऐसा भी क्या मायूस रहना
जो ख़ल्क़ उट्ठी तो सब कर्तब तमाशा ख़त्म होगा

- Iftikhar Arif
0 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari