sukhan-e-haq ko fazilat nahin milne waali | सुख़न-ए-हक़ को फ़ज़ीलत नहीं मिलने वाली - Iftikhar Arif

sukhan-e-haq ko fazilat nahin milne waali
sabr par daad-e-shujaat nahin milne waali

waqt-e-maaloom ki dahshat se larzata hua dil
dooba jaata hai ki mohlat nahin milne waali

zindagi nazr guzaari to mili chaadar-e-khaak
is se kam par to ye nemat nahin milne waali

raas aane lagi duniya to kaha dil ne ki ja
ab tujhe dard ki daulat nahin milne waali

havas-e-luqma-e-tar kha gai lehje ka jalaal
ab kisi harf ko hurmat nahin milne waali

ghar se nikle hue beton ka muqaddar maaloom
maa ke qadmon mein bhi jannat nahin milne waali

zindagi bhar ki kamaai yahi misre do-chaar
is kamaai pe to izzat nahin milne waali

सुख़न-ए-हक़ को फ़ज़ीलत नहीं मिलने वाली
सब्र पर दाद-ए-शुजाअत नहीं मिलने वाली

वक़्त-ए-मालूम की दहशत से लरज़ता हुआ दिल
डूबा जाता है कि मोहलत नहीं मिलने वाली

ज़िंदगी नज़्र गुज़ारी तो मिली चादर-ए-ख़ाक
इस से कम पर तो ये नेमत नहीं मिलने वाली

रास आने लगी दुनिया तो कहा दिल ने कि जा
अब तुझे दर्द की दौलत नहीं मिलने वाली

हवस-ए-लुक़्मा-ए-तर खा गई लहजे का जलाल
अब किसी हर्फ़ को हुरमत नहीं मिलने वाली

घर से निकले हुए बेटों का मुक़द्दर मालूम
माँ के क़दमों में भी जन्नत नहीं मिलने वाली

ज़िंदगी भर की कमाई यही मिसरे दो-चार
इस कमाई पे तो इज़्ज़त नहीं मिलने वाली

- Iftikhar Arif
0 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari