na hua naseeb qaraar-e-jaan hawas-e-qaraar bhi ab nahin | न हुआ नसीब क़रार-ए-जाँ हवस-ए-क़रार भी अब नहीं - Jaun Elia

na hua naseeb qaraar-e-jaan hawas-e-qaraar bhi ab nahin
tira intizaar bahut kiya tira intizaar bhi ab nahin

tujhe kya khabar mah-o-saal ne hamein kaise zakham diye yahan
tiri yaadgaar thi ik khalish tiri yaadgaar bhi ab nahin

na gile rahe na gumaan rahe na guzaarishein hain na guftugoo
vo nishaat-e-wadaa-e-wasl kya hamein e'tibaar bhi ab nahin

rahe naam-e-rishta-e-raftagaan na shikaayaten hain na shokhiyaan
koi uzr-khwaah to ab kahaan koi uzr-daar bhi ab nahin

kise nazr den dil-o-jaan bahm ki nahin vo kaakul-e-kham-b-kham
kise har-nafs ka hisaab den ki shameem-e-yaar bhi ab nahin

vo hujoom-e-dil-zadgaan ki tha tujhe muzda ho ki bikhar gaya
tire aastaane ki khair ho sar-e-rah-e-gubaar bhi ab nahin

vo jo apni jaan se guzar gaye unhen kya khabar hai ki shehar mein
kisi jaan-nisaar ka zikr kya koi sogwaar bhi ab nahin

nahin ab to ahl-e-junoon mein bhi vo jo shauq-e-shehr mein aam tha
vo jo rang tha kabhi koo-b-koo sar-e-koo-e-yaar bhi ab nahin

न हुआ नसीब क़रार-ए-जाँ हवस-ए-क़रार भी अब नहीं
तिरा इंतिज़ार बहुत किया तिरा इंतिज़ार भी अब नहीं

तुझे क्या ख़बर मह-ओ-साल ने हमें कैसे ज़ख़्म दिए यहाँ
तिरी यादगार थी इक ख़लिश तिरी यादगार भी अब नहीं

न गिले रहे न गुमाँ रहे न गुज़ारिशें हैं न गुफ़्तुगू
वो निशात-ए-वादा-ए-वस्ल क्या हमें ए'तिबार भी अब नहीं

रहे नाम-ए-रिश्ता-ए-रफ़्तगाँ न शिकायतें हैं न शोख़ियाँ
कोई उज़्र-ख़्वाह तो अब कहाँ कोई उज़्र-दार भी अब नहीं

किसे नज़्र दें दिल-ओ-जाँ बहम कि नहीं वो काकुल-ए-खम-ब-ख़म
किसे हर-नफ़स का हिसाब दें कि शमीम-ए-यार भी अब नहीं

वो हुजूम-ए-दिल-ज़दगाँ कि था तुझे मुज़्दा हो कि बिखर गया
तिरे आस्ताने की ख़ैर हो सर-ए-रह-ए-गुबार भी अब नहीं

वो जो अपनी जाँ से गुज़र गए उन्हें क्या ख़बर है कि शहर में
किसी जाँ-निसार का ज़िक्र क्या कोई सोगवार भी अब नहीं

नहीं अब तो अहल-ए-जुनूँ में भी वो जो शौक़-ए-शहर में आम था
वो जो रंग था कभी कू-ब-कू सर-ए-कू-ए-यार भी अब नहीं

- Jaun Elia
18 Likes

Kismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Kismat Shayari Shayari