theek hai khud ko hum badalte hain | ठीक है ख़ुद को हम बदलते हैं - Jaun Elia

theek hai khud ko hum badalte hain
shukriya mashwarat ka chalte hain

ho raha hoon main kis tarah barbaad
dekhne waale haath malte hain

hai vo jaan ab har ek mehfil ki
hum bhi ab ghar se kam nikalte hain

kya takalluf karein ye kehne mein
jo bhi khush hai hum us se jalte hain

hai use door ka safar dar-pesh
hum sambhaale nahin sambhalte hain

tum bano rang tum bano khushboo
hum to apne sukhun mein dhalti hain

main usi tarah to bahalta hoon
aur sab jis tarah bahalte hain

hai ajab faisley ka sehra bhi
chal na padiye to paanv jalte hain

ठीक है ख़ुद को हम बदलते हैं
शुक्रिया मश्वरत का चलते हैं

हो रहा हूँ मैं किस तरह बरबाद
देखने वाले हाथ मलते हैं

है वो जान अब हर एक महफ़िल की
हम भी अब घर से कम निकलते हैं

क्या तकल्लुफ़ करें ये कहने में
जो भी ख़ुश है हम उस से जलते हैं

है उसे दूर का सफ़र दर-पेश
हम सँभाले नहीं सँभलते हैं

तुम बनो रंग तुम बनो ख़ुश्बू
हम तो अपने सुख़न में ढलते हैं

मैं उसी तरह तो बहलता हूँ
और सब जिस तरह बहलते हैं

है अजब फ़ैसले का सहरा भी
चल न पड़िए तो पाँव जलते हैं

- Jaun Elia
28 Likes

Broken Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Broken Shayari Shayari