ghar se hum ghar talak gaye honge | घर से हम घर तलक गए होंगे - Jaun Elia

ghar se hum ghar talak gaye honge
apne hi aap tak gaye honge

hum jo ab aadmi hain pehle kabhi
jaam honge chhalk gaye honge

vo bhi ab hum se thak gaya hoga
hum bhi ab us se thak gaye honge

shab jo hum se hua muaaf karo
nahin pee thi bahak gaye honge

kitne hi log hirs-e-shohrat mein
daar par khud latk gaye honge

shukr hai is nigaah-e-kam ka miyaan
pehle hi hum khatk gaye honge

hum to apni talash mein akshar
az sama-ta-samak gaye honge

us ka lashkar jahaan-tahaan ya'ni
hum bhi bas be-kumak gaye honge

jaun allah aur ye aalam
beech mein hum atak gaye honge

घर से हम घर तलक गए होंगे
अपने ही आप तक गए होंगे

हम जो अब आदमी हैं पहले कभी
जाम होंगे छलक गए होंगे

वो भी अब हम से थक गया होगा
हम भी अब उस से थक गए होंगे

शब जो हम से हुआ मुआफ़ करो
नहीं पी थी बहक गए होंगे

कितने ही लोग हिर्स-ए-शोहरत में
दार पर ख़ुद लटक गए होंगे

शुक्र है इस निगाह-ए-कम का मियां
पहले ही हम खटक गए होंगे

हम तो अपनी तलाश में अक्सर
अज़ समा-ता-समक गए होंगे

उस का लश्कर जहां-तहां या'नी
हम भी बस बे-कुमक गए होंगे

'जौन' अल्लाह और ये आलम
बीच में हम अटक गए होंगे

- Jaun Elia
16 Likes

Religion Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Religion Shayari Shayari