darguzar jitna kiya hai wahi kaafi hai mujhe | दरगुज़र जितना किया है वही काफ़ी है मुझे - Jawwad Sheikh

darguzar jitna kiya hai wahi kaafi hai mujhe
ab tujhe qatl bhi kar doon to muaafi hai mujhe

mas'ala aise koi hal to na hoga shaayad
sher kehna hi mere gham ki talaafi hai mujhe

dafatan ik naye ehsaas ne chauka sa diya
main to samjha tha ki har saans izafi hai mujhe

main na kehta tha dawaayein nahin kaam aayengi
jaanta tha tiri awaaz hi shaafi hai mujhe

is se andaaza lagao ki main kis haal mein hoon
gair ka dhyaan bhi ab va'da-khilaafi hai mujhe

vo kahi saamne aa jaaye to kya ho javvaad
yaad hi us ki agar seena-shigaafi hai mujhe

दरगुज़र जितना किया है वही काफ़ी है मुझे
अब तुझे क़त्ल भी कर दूँ तो मुआफ़ी है मुझे

मसअला ऐसे कोई हल तो न होगा शायद
शेर कहना ही मिरे ग़म की तलाफ़ी है मुझे

दफ़अतन इक नए एहसास ने चौंका सा दिया
मैं तो समझा था कि हर साँस इज़ाफ़ी है मुझे

मैं न कहता था दवाएँ नहीं काम आएँगी
जानता था तिरी आवाज़ ही शाफ़ी है मुझे

इस से अंदाज़ा लगाओ कि मैं किस हाल में हूँ
ग़ैर का ध्यान भी अब वा'दा-ख़िलाफ़ी है मुझे

वो कहीं सामने आ जाए तो क्या हो 'जव्वाद'
याद ही उस की अगर सीना-शिगाफ़ी है मुझे

- Jawwad Sheikh
14 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari