tootne par koi aaye to phir aisa toote | टूटने पर कोई आए तो फिर ऐसा टूटे - Jawwad Sheikh

tootne par koi aaye to phir aisa toote
ki jise dekh ke har dekhne waala toote

apne bikhre hue tukdon ko samete kab tak
ek insaan ki khaatir koi kitna toote

koi tukda teri aankhon mein na chubh jaaye kahi
door ho ja ki mere khwaab ka sheesha toote

main kisi aur ko sochun to mujhe hosh aaye
main kisi aur ko dekhoon to ye nashsha toote

ranj hota hai to aisa ki bataaye na bane
jab kisi apne ke bais koi apna toote

paas baithe hue yaaron ko khabar tak na hui
ham kisi baat pe is darja anokha toote

itni jaldi to sambhalne ki tavakko na karo
waqt hi kitna hua hai mera sapna toote

daad ki bheek na maang ai mere achhe shaayar
ja tujhe meri dua hai tera qaasa toote

tu use kis ke bharose pe nahin kaat rahi
charkh ko dekhne waali tera charkha toote

warna kab tak liye firta rahoon us ko javvaad
koi soorat ho ki ummeed se rishta toote

टूटने पर कोई आए तो फिर ऐसा टूटे
कि जिसे देख के हर देखने वाला टूटे

अपने बिखरे हुए टुकड़ों को समेटे कब तक
एक इंसान की ख़ातिर कोई कितना टूटे

कोई टुकड़ा तेरी आँखों में न चुभ जाए कहीं
दूर हो जा कि मेरे ख़्वाब का शीशा टूटे

मैं किसी और को सोचूँ तो मुझे होश आए
मैं किसी और को देखूँ तो ये नश्शा टूटे

रंज होता है तो ऐसा कि बताए न बने
जब किसी अपने के बाइ'स कोई अपना टूटे

पास बैठे हुए यारों को ख़बर तक न हुई
हम किसी बात पे इस दर्जा अनोखा टूटे

इतनी जल्दी तो सँभलने की तवक़्क़ो' न करो
वक़्त ही कितना हुआ है मेरा सपना टूटे

दाद की भीक न माँग ऐ मेरे अच्छे शाएर
जा तुझे मेरी दुआ है तेरा कासा टूटे

तू उसे किस के भरोसे पे नहीं कात रही
चर्ख़ को देखने वाली तेरा चर्ख़ा टूटे

वर्ना कब तक लिए फिरता रहूँ उस को 'जव्वाद'
कोई सूरत हो कि उम्मीद से रिश्ता टूटे

- Jawwad Sheikh
22 Likes

Shaayar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Shaayar Shayari Shayari