eed ke roz yahi apni dua hai rab se | ईद के रोज़ यही अपनी दुआ है रब से - Zaki Azmi

eed ke roz yahi apni dua hai rab se
mulk mein aman ka ulfat ka basera ho jaaye

har pareshaani se har shakhs ko mil jaaye nijaat
is siyah raat ka bas jald savera ho jaaye

ईद के रोज़ यही अपनी दुआ है रब से
मुल्क में अमन का, उलफ़त का बसेरा हो जाए

हर परेशानी से हर शख़्स को मिल जाए निजात
इस सियह रात का बस जल्द सवेरा हो जाए

- Zaki Azmi
10 Likes

Deshbhakti Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Zaki Azmi

Similar Moods

As you were reading Deshbhakti Shayari Shayari