koi itna pyaara kaise ho saka hai | कोई इतना प्यारा कैसे हो सकता है - Jawwad Sheikh

koi itna pyaara kaise ho saka hai
phir saare ka saara kaise ho saka hai

kaise kisi ki yaad humein zinda rakhti hai
ek khayal sahaara kaise ho saka hai

tujh se jab mil kar bhi udaasi kam nahin hoti
tere baghair guzaara kaise ho saka hai

yaar hawa se kaise aag bhadak uthati hai
lafz koi angaara kaise ho saka hai

kaun zamaane-bhar ki thokren kha kar khush hai
dard kisi ko pyaara kaise ho saka hai

hum bhi kaise ek hi shakhs ke ho kar rah jaayen
vo bhi sirf hamaara kaise ho saka hai

kaise ho saka hai jo kuch bhi main chaahoon
bol na mere yaara kaise ho saka hai

कोई इतना प्यारा कैसे हो सकता है
फिर सारे का सारा कैसे हो सकता है

कैसे किसी की याद हमें ज़िंदा रखती है
एक ख़याल सहारा कैसे हो सकता है

तुझ से जब मिल कर भी उदासी कम नहीं होती
तेरे बग़ैर गुज़ारा कैसे हो सकता है

यार हवा से कैसे आग भड़क उठती है
लफ़्ज़ कोई अँगारा कैसे हो सकता है

कौन ज़माने-भर की ठोकरें खा कर ख़ुश है
दर्द किसी को प्यारा कैसे हो सकता है

हम भी कैसे एक ही शख़्स के हो कर रह जाएँ
वो भी सिर्फ़ हमारा कैसे हो सकता है

कैसे हो सकता है जो कुछ भी मैं चाहूँ
बोल ना मेरे यारा कैसे हो सकता है

- Jawwad Sheikh
24 Likes

Khyaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jawwad Sheikh

As you were reading Shayari by Jawwad Sheikh

Similar Writers

our suggestion based on Jawwad Sheikh

Similar Moods

As you were reading Khyaal Shayari Shayari