bimaar-e-mohabbat ki dava hai ki nahin hai | बीमार-ए-मोहब्बत की दवा है कि नहीं है - Kaif Bhopali

bimaar-e-mohabbat ki dava hai ki nahin hai
mere kisi pahluu mein qaza hai ki nahin hai

sunta hoon ik aahat si barabar shab-e-wada
jaane tire qadmon ki sada hai ki nahin hai

sach hai ki mohabbat mein hamein maut ne maara
kuchh is mein tumhaari bhi khata hai ki nahin hai

mat dekh ki firta hoon tire hijr mein zinda
ye pooch ki jeene mein maza hai ki nahin hai

yun dhoondte firte hain mere baad mujhe vo
vo kaif kahi tera pata hai ki nahin hai

बीमार-ए-मोहब्बत की दवा है कि नहीं है
मेरे किसी पहलू में क़ज़ा है कि नहीं है

सुनता हूँ इक आहट सी बराबर शब-ए-वादा
जाने तिरे क़दमों की सदा है कि नहीं है

सच है कि मोहब्बत में हमें मौत ने मारा
कुछ इस में तुम्हारी भी ख़ता है कि नहीं है

मत देख कि फिरता हूँ तिरे हिज्र में ज़िंदा
ये पूछ कि जीने में मज़ा है कि नहीं है

यूँ ढूँडते फिरते हैं मिरे बाद मुझे वो
वो 'कैफ़' कहीं तेरा पता है कि नहीं है

- Kaif Bhopali
0 Likes

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari