dar-o-deewar pe shaklein si banaane aayi | दर-ओ-दीवार पे शक्लें सी बनाने आई - Kaif Bhopali

dar-o-deewar pe shaklein si banaane aayi
phir ye baarish meri tanhaai churaane aayi

zindagi baap ki maanind saza deti hai
rahm-dil maa ki tarah maut bachaane aayi

aaj kal phir dil-e-barbaad ki baatein hain wahi
ham to samjhe the ki kuchh aql thikaane aayi

dil mein aahat si hui rooh mein dastak goonji
kis ki khush-boo ye mujhe mere sirhaane aayi

main ne jab pahle-pahl apna watan chhodaa tha
door tak mujh ko ik awaaz bulane aayi

teri maanind tiri yaad bhi zalim nikli
jab bhi aayi hai mera dil hi dukhaane aayi

दर-ओ-दीवार पे शक्लें सी बनाने आई
फिर ये बारिश मेरी तन्हाई चुराने आई

ज़िंदगी बाप की मानिंद सज़ा देती है
रहम-दिल माँ की तरह मौत बचाने आई

आज कल फिर दिल-ए-बर्बाद की बातें हैं वही
हम तो समझे थे कि कुछ अक़्ल ठिकाने आई

दिल में आहट सी हुई रूह में दस्तक गूँजी
किस की ख़ुश-बू ये मुझे मेरे सिरहाने आई

मैं ने जब पहले-पहल अपना वतन छोड़ा था
दूर तक मुझ को इक आवाज़ बुलाने आई

तेरी मानिंद तिरी याद भी ज़ालिम निकली
जब भी आई है मिरा दिल ही दुखाने आई

- Kaif Bhopali
2 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari