etikaaf mein zaahid munh chhupaaye baitha hai | एतकाफ़ में ज़ाहिद मुँह छुपाए बैठा है - Kaif Bhopali

etikaaf mein zaahid munh chhupaaye baitha hai
ghaliban zamaane se maat khaaye baitha hai

waaye-aashiq-e-naadaan kaayenaat ye teri
ik shikasta sheeshe ko dil banaaye baitha hai

taalibaan-e-deed un ke dhoop dhoop firte hain
gair un ke kooche mein saaye saaye baitha hai

is taraf bhi ai sahab iltifaat-e-yak-mizgaan
ik gareeb mehfil mein sar jhukaaye baitha hai

door-baash ai gulchein vaa hai deeda-e-nargis
aaj har gul-e-naazuk khaar khaaye baitha hai

kyun suna nahin deta faisla muqaddar ka
nama-bar mere aage khat chhupaaye baitha hai

subh ki hawa un se sirf itna kah dena
koi sham'a ki ab tak lau badhaaye baitha hai

एतकाफ़ में ज़ाहिद मुँह छुपाए बैठा है
ग़ालिबन ज़माने से मात खाए बैठा है

वाए-आशिक़-ए-नादाँ काएनात ये तेरी
इक शिकस्ता शीशे को दिल बनाए बैठा है

तालिबान-ए-दीद उन के धूप धूप फिरते हैं
ग़ैर उन के कूचे में साए साए बैठा है

इस तरफ़ भी ऐ साहब इल्तिफ़ात-ए-यक-मिज़्गाँ
इक ग़रीब महफ़िल में सर झुकाए बैठा है

दूर-बाश ऐ गुलचीं वा है दीदा-ए-नर्गिस
आज हर गुल-ए-नाज़ुक ख़ार खाए बैठा है

क्यूँ सुना नहीं देता फ़ैसला मुक़द्दर का
नामा-बर मिरे आगे ख़त छुपाए बैठा है

सुब्ह की हवा उन से सिर्फ़ इतना कह देना
कोई शम्अ की अब तक लौ बढ़ाए बैठा है

- Kaif Bhopali
0 Likes

Mehman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Mehman Shayari Shayari