jis pe tiri shamsheer nahin hai | जिस पे तिरी शमशीर नहीं है - Kaif Bhopali

jis pe tiri shamsheer nahin hai
us ki koi tauqeer nahin hai

us ne ye kah kar fer diya khat
khoon se kyun tahreer nahin hai

zakham-e-jigar mein jhaank ke dekho
kya ye tumhaara teer nahin hai

zakham lage hain khulne gulchein
ye to tiri jaageer nahin hai

shehar mein yaum-e-aman hai waiz
aaj tiri taqreer nahin hai

udi ghatta to waapas ho ja
aaj koi tadbeer nahin hai

shehar mohabbat ka yun ujda
door talak taameer nahin hai

itni haya kyun aaine se
ye to meri tasveer nahin hai

जिस पे तिरी शमशीर नहीं है
उस की कोई तौक़ीर नहीं है

उस ने ये कह कर फेर दिया ख़त
ख़ून से क्यूँ तहरीर नहीं है

ज़ख़्म-ए-जिगर में झाँक के देखो
क्या ये तुम्हारा तीर नहीं है

ज़ख़्म लगे हैं खुलने गुलचीं
ये तो तिरी जागीर नहीं है

शहर में यौम-ए-अमन है वाइज़
आज तिरी तक़रीर नहीं है

ऊदी घटा तो वापस हो जा
आज कोई तदबीर नहीं है

शहर मोहब्बत का यूँ उजड़ा
दूर तलक तामीर नहीं है

इतनी हया क्यूँ आईने से
ये तो मिरी तस्वीर नहीं है

- Kaif Bhopali
1 Like

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari