tum se na mil ke khush hain vo daava kidhar gaya | तुम से न मिल के ख़ुश हैं वो दावा किधर गया - Kaif Bhopali

tum se na mil ke khush hain vo daava kidhar gaya
do roz mein gulaab sa chehra utar gaya

jaan-e-bahaar tum ne vo kaante chubhoye hain
main har gul-e-shagufta ko choone se dar gaya

is dil ke tootne ka mujhe koi gham nahin
achha hua ki paap kata dard-e-sar gaya

main bhi samajh raha hoon ki tum tum nahin rahe
tum bhi ye soch lo ki mera kaif mar gaya

तुम से न मिल के ख़ुश हैं वो दावा किधर गया
दो रोज़ में गुलाब सा चेहरा उतर गया

जान-ए-बहार तुम ने वो काँटे चुभोए हैं
मैं हर गुल-ए-शगुफ़्ता को छूने से डर गया

इस दिल के टूटने का मुझे कोई ग़म नहीं
अच्छा हुआ कि पाप कटा दर्द-ए-सर गया

मैं भी समझ रहा हूँ कि तुम तुम नहीं रहे
तुम भी ये सोच लो कि मिरा 'कैफ़' मर गया

- Kaif Bhopali
1 Like

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari