kahaan kho gai rooh kii raushni | कहाँ खो गई रूह की रौशनी - Khalilur Rahman Azmi

kahaan kho gai rooh kii raushni
bata meri raaton kii aawaargi

main jab lamhe lamhe ka ras pee chuka
to kuchh aur jaagi meri tishnagi

agar ghar se nikloon to phir tez dhoop
magar ghar mein dasti hui teergi

ghamon pe tabassum kii daali naqaab
to hone lagi aur be-pardagi

magar jaagna apni qismat mein tha
bulaati rahi neend kii jal-paree

jo taameer kii kunj-e-tanhaai mein
vo deewaar apne hi sar par giri

hui baarish-e-sang us shehar mein
hamein bhi mila haqq-e-ham-saayegi

guzaari hai kitnon ne is tarah umr
bil-aqsaat karte rahe khud-kushi

koii waqt batla ki tujh se miloon
meri daudti bhaagti zindagi

jinhen saath chalna ho chalte rahein
ghadi waqt kii kis kii khaatir ruki

mein jeeta to paai kisi se na daad
mein haara to ghar par badi bheed thi

mujhe ye andhere nigal jaayenge
kahaan hai tu ai mere soorj-mukhi

hua ham pe ab jin ka saaya haraam
thi un baadlon se kabhi dosti

nikale gaye is ke ma'ni hazaar
ajab cheez thi ik meri khaamoshi

कहाँ खो गई रूह की रौशनी
बता मेरी रातों की आवारगी

मैं जब लम्हे लम्हे का रस पी चुका
तो कुछ और जागी मिरी तिश्नगी

अगर घर से निकलूँ तो फिर तेज़ धूप
मगर घर में डसती हुई तीरगी

ग़मों पे तबस्सुम की डाली नक़ाब
तो होने लगी और बे-पर्दगी

मगर जागना अपनी क़िस्मत में था
बुलाती रही नींद की जल-परी

जो तामीर की कुंज-ए-तन्हाई में
वो दीवार अपने ही सर पर गिरी

हुई बारिश-ए-संग उस शहर में
हमें भी मिला हक़्क़-ए-हम-साएगी

गुज़ारी है कितनों ने इस तरह उम्र
बिल-अक़सात करते रहे ख़ुद-कुशी

कोई वक़्त बतला कि तुझ से मिलूँ
मिरी दौड़ती भागती ज़िंदगी

जिन्हें साथ चलना हो चलते रहें
घड़ी वक़्त की किस की ख़ातिर रुकी

में जीता तो पाई किसी से न दाद
में हारा तो घर पर बड़ी भीड़ थी

मुझे ये अंधेरे निगल जाएँगे
कहाँ है तू ऐ मेरे सूरज-मुखी

हुआ हम पे अब जिन का साया हराम
थी उन बादलों से कभी दोस्ती

निकाले गए इस के मअनी हज़ार
अजब चीज़ थी इक मिरी ख़ामुशी

- Khalilur Rahman Azmi
0 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Khalilur Rahman Azmi

As you were reading Shayari by Khalilur Rahman Azmi

Similar Writers

our suggestion based on Khalilur Rahman Azmi

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari