akela hain vo aur jhunjla rahe hain | अकेले हैं वो और झुंझला रहे हैं - Khumar Barabankvi

akela hain vo aur jhunjla rahe hain
meri yaad se jang farma rahe hain

ilaahi mere dost hon khairiyat se
ye kyun ghar mein patthar nahin aa rahe hain

bahut khush hain gustakhion par hamaari
bazaahir jo barham nazar aa rahe hain

ye kaisi hawa-e-tarqqi chali hai
diye to diye dil bujhe ja rahe hain

bahishte-tasavvur ke jalwe hain main hoon
judaai salaamat maze aa rahe hain

bahaaron mein bhi may se parhez tauba
khumaar aap kaafir hue ja rahe hain

अकेले हैं वो और झुंझला रहे हैं
मेरी याद से जंग फ़रमा रहे हैं

इलाही मेरे दोस्त हों ख़ैरियत से
ये क्यूँ घर में पत्थर नहीं आ रहे हैं

बहुत ख़ुश हैं गुस्ताख़ियों पर हमारी
बज़ाहिर जो बरहम नज़र आ रहे हैं

ये कैसी हवा-ए-तरक्की चली है
दीये तो दीये दिल बुझे जा रहे हैं

बहिश्ते-तसव्वुर के जलवे हैं मैं हूँ
जुदाई सलामत मज़े आ रहे हैं

बहारों में भी मय से परहेज़ तौबा
‘ख़ुमार’ आप काफ़िर हुए जा रहे हैं

- Khumar Barabankvi
2 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Khumar Barabankvi

As you were reading Shayari by Khumar Barabankvi

Similar Writers

our suggestion based on Khumar Barabankvi

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari