vo jab band kamre mein latka hua tha ye kis ko pata tha | वो जब बंद कमरे में लटका हुआ था ये किस को पता था - Kushal Dauneria

vo jab band kamre mein latka hua tha ye kis ko pata tha
khilaadi mohabbat mein bilkul naya tha ye kis ko pata tha

ki un jaahilon ne use aadmi ki tarah bhi na rakha
main bachpan se jis shakhs ko poojta tha ye kis ko pata tha

main jab tak use jeet lene ki taiyaariyaan kar raha tha
vo tab tak kisi aur ka ho chuka tha ye kis ko pata tha

वो जब बंद कमरे में लटका हुआ था ये किस को पता था
खिलाड़ी मोहब्बत में बिल्कुल नया था ये किस को पता था

कि उन जाहिलों ने उसे आदमी की तरह भी न रक्खा
मैं बचपन से जिस शख़्स को पूजता था ये किस को पता था

मैं जब तक उसे जीत लेने की तैयारियाँ कर रहा था
वो तब तक किसी और का हो चुका था ये किस को पता था

- Kushal Dauneria
19 Likes

Bachpan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kushal Dauneria

As you were reading Shayari by Kushal Dauneria

Similar Writers

our suggestion based on Kushal Dauneria

Similar Moods

As you were reading Bachpan Shayari Shayari