hum ko junoon kya sikhaate ho hum the pareshaan tum se ziyaada | हम को जुनूँ क्या सिखलाते हो हम थे परेशाँ तुम से ज़ियादा - Majrooh Sultanpuri

hum ko junoon kya sikhaate ho hum the pareshaan tum se ziyaada
chaak kiye hain hum ne azeezo chaar garebaan tum se ziyaada

chaak-e-jigar mohtaaj-e-rafoo hai aaj to daaman sarf-e-lahu hai
ik mausam tha hum ko raha hai shauq-e-bahaaraan tum se ziyaada

ahad-e-wafaa yaaron se nibhaayein naaz-e-harifaan hans ke uthaaye
jab humein armaan tum se siva tha ab hain pashemaan tum se ziyaada

hum bhi hamesha qatl hue aur tum ne bhi dekha door se lekin
ye na samajhna hum ko hua hai jaan ka nuqsaan tum se ziyaada

jaao tum apne baam ki khaatir saari love shamon ki katar lo
zakham ke mehr-o-maah salaamat jashn-e-charaagaan tum se ziyaada

dekh ke uljhan zulf-e-dota ki kaise uljh padte hain hawa se
hum se seekho hum ko hai yaaro fikr-e-nigaaraan tum se ziyaada

zanjeer o deewaar hi dekhi tum ne to majrooh magar hum
koocha koocha dekh rahe hain aalam-e-zindaan tum se ziyaada

हम को जुनूँ क्या सिखलाते हो हम थे परेशाँ तुम से ज़ियादा
चाक किए हैं हम ने अज़ीज़ो चार गरेबाँ तुम से ज़ियादा

चाक-ए-जिगर मोहताज-ए-रफ़ू है आज तो दामन सर्फ़-ए-लहू है
इक मौसम था हम को रहा है शौक़-ए-बहाराँ तुम से ज़ियादा

अहद-ए-वफ़ा यारों से निभाएँ नाज़-ए-हरीफ़ाँ हँस के उठाएँ
जब हमें अरमाँ तुम से सिवा था अब हैं पशेमाँ तुम से ज़ियादा

हम भी हमेशा क़त्ल हुए और तुम ने भी देखा दूर से लेकिन
ये न समझना हम को हुआ है जान का नुक़साँ तुम से ज़ियादा

जाओ तुम अपने बाम की ख़ातिर सारी लवें शम्ओं की कतर लो
ज़ख़्म के मेहर-ओ-माह सलामत जश्न-ए-चराग़ाँ तुम से ज़ियादा

देख के उलझन ज़ुल्फ़-ए-दोता की कैसे उलझ पड़ते हैं हवा से
हम से सीखो हम को है यारो फ़िक्र-ए-निगाराँ तुम से ज़ियादा

ज़ंजीर ओ दीवार ही देखी तुम ने तो 'मजरूह' मगर हम
कूचा कूचा देख रहे हैं आलम-ए-ज़िंदाँ तुम से ज़ियादा

- Majrooh Sultanpuri
1 Like

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Majrooh Sultanpuri

As you were reading Shayari by Majrooh Sultanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Majrooh Sultanpuri

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari